Advertisement
करवा चौथ के दिन महिलाएं पति की लंबी उम्र के लिए निर्जला उपवास करती हैं और रात को चंद्र दर्शन करने के बाद ही कुछ खाती हैं. इस साल करवा चौथ का व्रत 13 अक्टूबर दिन गुरुवार को रखा जाएगा. ज्योतिषियों की मानें तो इस बार करवा चौथ पर ग्रहों की विशेष स्थिति बन रही है.
Karwa Chauth 2022 Date: करवा चौथ पर 13 साल बाद बन रहा ये शुभ संयोग, सुहागिनों को मिलेगा शुभ फल
Karwa Chauth 2022 Date: करवा चौथ पर 13 साल बाद बन रहा ये शुभ संयोग, सुहागिनों को मिलेगा शुभ फल
करवा चौथ का व्रत हर साल कार्तिक मास के कृष्ण पक्ष की चतुर्थी तिथि को रखा जाता है.
इस दिन महिलाएं पति की लंबी उम्र के लिए निर्जला उपवास करती हैं और रात को चंद्र दर्शन करने के बाद ही कुछ खाती हैं.
इस साल करवा चौथ का व्रत 13 अक्टूबर दिन गुरुवार को रखा जाएगा.
ज्योतिषियों की मानें तो इस बार करवा चौथ पर ग्रहों की विशेष स्थिति बन रही है.
करवा चौथ पर 13 साल बाद एक अद्भुत संयोग भी बन रहा है. 

समय गुरु देव बृहस्पति, बुध और शनि स्वगृही यानी अपनी-अपनी राशि में विराजमान हैं,
जिससे सुख और सौभाग्य पाने में सरलता होगी.
सूर्य और बुध भी एक साथ होंगे और उन पर गुरु का प्रभाव भी होगा.
इससे पति-पत्नी का आपसी संबंध और विश्वास मजबूत होगा.
शुक्र-बृहस्पति का संबंध भी इस पर्व पर बना रहेगा, जिससे की गई प्रार्थना शीघ्र स्वीकार होगी.
13 वर्ष के बाद मीन राशि का बृहस्पति इस पर्व को ज्यादा सुखद बनाएगा
इससे वैवाहिक जीवन की तमाम अड़चनें भी दूर हो जाएंगी. 
करवा चौथ के व्रत पर चंद्रमा के दर्शन के लिए थाली सजाएं.

थाली में दीपक, सिंदूर, अक्षत, कुमकुम, रोली और चावल की बनी मिठाई या सफेद मिठाई रखें.
संपूर्ण श्रंगार करें और करवे में जल भरकर मां गौरी और गणेश की पूजा करें चंद्रमा के निकलने पर छन्नी से या जल में चंद्रमा को देखें और अर्घ्य दें. करवा चौथ व्रत की कथा सुनें.
Also Read -गौरी गोपाल मंदिर वृन्दावन, परमपूज्य श्री अनिरुद्धाचार्य जी महाराज
Advertisement

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here