Advertisement

शिया सेंट्रल वक्फ बोर्ड के पूर्व चेयरमैन वसीम रिजवी ने पहले इस्लाम धर्म को छोड़कर हिंदू धर्म अपनाया और अब सन्यास लेने की इच्छा जताई है वसीम रिजवी उर्फ जितेंद्र नारायण त्यागी अब सार्वजनिक जीवन की सभी मोह माया को त्यागकर संन्यास लेना चाहते है। रविवार 22 मई को हरिद्वार में स्वामी आनंद स्वरूप के साथ रुद्राभिषेक करने के बाद उन्होंने ये इच्छा जताई थी।

एक धर्म संसद में भड़काऊ भाषण देने के आरोप में वे पिछले चार महीनों से हरिद्वार जेल में थे। सुप्रीम कोर्ट ने उन्हें इस शर्त पर जमात दी है की भविष्य में उनके द्वारा इस तरह के भाषण या बयान नहीं दिए जायेंगे। जेल से रिहा होने के बाद जितेंद्र ने हरिद्वार में स्थित शांभवी धाम में काली सेवा आखड़े के प्रमुख स्वामी दिनेशानंद भारती के साथ भगवान शंकर का रुद्राभिषेक किया और उनके समक्ष सन्यास लेने की इच्छा रखी। हालांकि अभी इस विचार पर निर्णय नहीं लिया गया है। अखाड़ों के अन्य सदस्यों के साथ विचार विमर्श करने के बाद ही इसका निर्णय होगा की उन्हें अखाड़े में शामिल किया जाएगा या नहीं।

हाल ही में गाजियाबाद के डासना स्थित देवी मंदिर के महंत और जूना अखाड़े के महामंडलेश्वर यति नरसिंहानंद गिरी ने भी सार्वजानिक जीवन से संन्यास लेकर पूरी तरह अपना जीवन धार्मिक कार्यों में लगाने की बात कही है साथ ही उन्होंने इस्लाम जिहाद के खिलाफ उनकी लड़ाई और सभी धर्म सांसदों से भी खुद को अलग करने का निर्णय लिया है।

यह भी पढ़े :  कार्तिक आर्यन की Bhool Bhulaiyaa 2 कॉमेडी ने तोड़ा रिकॉर्ड…..पहले ही दिन बॉक्स ऑफिस पर जबरदस्त कमाई

Advertisement

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here