Advertisement

पिथौरागढ़ जिले में स्थित गंगोलीहाट तहसील के मुख्यालय से 16 किमी की दूरी पर स्थित है पाताल भुवनेश्वर. गंगोलीहाट तहसील के भुवनेश्वर गांव में समुद्र तल से 1350 मी. की ऊंचाई पर स्थित पाताल भुवनेश्वर एक प्राचीन गुफा मंदिर है. भुवनेश्वर गांव से नीचे की ओर एक भव्य मंदिर है जिसके मंदिर परिसर में काल, नील और बटुक भैरव के छोटे-छोटे मंदिर स्थित हैं.


प्रमुख मंदिर के गर्भगृह से पूर्व एक बाह्य कक्ष है. इस बाह्य कक्ष में जय और विजय की विशाल मूर्तियों के अतिरिक्त शिव-पार्वती की मूर्ति एवं अन्य कई छोटी-छोटी मूर्तियां बनी हैं. मंदिर के दायीं ओर चंडिका देवी का मंदिर है जिसके भीतर अष्टभुजा देवी की प्रस्तर मूर्ति स्थित है इस मूर्ति के हाथ खंडित हैं. इसके अतिरिक्त यहां एक कांसे की मूर्ति, शेषावतर की मूर्ति, सूर्य मूर्ति और एक अन्य खण्डित मूर्ति भी है.

देखिये वीडियो :

इन मंदिरों से आगे ही कुछ दूरी पर एक प्राकृतिक जल स्त्रोत है. जिसके बाद एक छोटा हल्का सा ढलान पड़ता है यहीं पाताल भुवनेश्वर की गुफा में प्रवेश करने के लिए उबड़-खाबड़ सीढियां बनी हैं.


सीढ़ियों से उतरकर गुफा की दीवारों में उकरी आकृतियां भक्तों की आस्था का पहला केंद्र बनती हैं. मुख्य भाग में पहुंचने पर सबसे पहले दाहिनी ओर शेषनाग की बड़ी मूर्ति है जिसने पृथ्वी को अपने शीश पर धारण किया है.


इसके आगे भगवान गणेश का कटा हुआ मस्तक शिला रूप में स्थित है. शिलामूर्ति के ठीक ऊपर 108 पंखुड़ियों वाला शवाष्टक दल ब्रह्मकमल है। ब्रह्मकमल से पानी भगवान गणेश के शिलारूपी मस्तक पर दिव्य बूंद टपकती है. मुख्य बूंद गणेश के मुख में गिरती हुई दिखाई देती है. ऐसा माना जाता है कि भगवान शिव द्वारा इसे स्थापित किया गया है.


मोक्षद्वार के आगे विशाल मैदान के मध्य भाग में पुष्पों और गुच्छों से निर्मित पारिजात वृक्ष है. कहा जाता है कि द्वापर युग भगवान कृष्ण इसे देवराज इंद्र की अमरावती पुरी से मृत्युलोक में लाये थे. इस मैदान के आगे कदलीवन नामक मार्ग है मान्यता अनुसार यहां हनुमान-अहिरावण संग्राम हुआ था और हनुमान जी ने पाताल विध्वंस किया था इसके साथ ही एक मार्कण्डेय पुराण की भी रचना की थी. इसके ऊपर ब्रह्माजी के पांचवे सिर में कामधेनु गाय के थन से निकलती हुई दूध की धारा गिराती है. इस स्थान पर पितरों का तर्पण किया जाता है.


इसके बाद जलयुक्त सप्तकुंड का दृश्य निर्मित है जिसमें दिखाया गया है कि कुंड का जल सर्पों के अतिरिक्त अन्य कोई न पी सके. ब्रह्मा ने इसकी पहरेदारी के लिए एक हंस की नियुक्ति की है. मान्यता है कि एक बार यह हंस स्वयं पानी पी गया जिसके बाद मिले श्राप के कारण इसका मुंह टेढ़ा है.


इस पास में स्थित एक जगह पर भगवान शंकर की जटाओं से गंगा की धारा निकल रही है. इसके नीचे तैंतीस करोड़ देवी-देवता लिंगों के रूप में आराधना करते हुये नजर आते हैं.


मध्य में नर्मदेश्वर महादेव का लिंग विद्यमान है. इसके आस-पास नंदी और विश्वकर्मा कुंड बना हुआ है. यहीं पर आकाश गंगा और सप्तऋषि मंडल का दृश्य दिखाई देता है.


इसके बाद तामशक्ति युक्त एक प्राकृतिक लिंग त्रिमूर्ति है माना जाता है कि इसकी स्थापना आदि गुरु शंकराचार्य ने अपनी कैलाश यात्रा के दौरान की. इसके ऊपर तीन गंगाओं की जलधारा बारी-बारी से गिरती है. यही पर मुख्य आराधना की जाती है.

Advertisement

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here